पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा: पीएम मोदी ने नहीं निभाया दवाई ,पढ़ाई और कमाई का वादा

0
42

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के मुखिया और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा गुरुवार को महागठबंधन का हिस्सा हो गए. इस मौके पर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर वादाखिलाफी का इल्जाम लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की जमकर तारीफ की हिंदी पट्टी के तीन राज्यों में कांग्रेस को मिली जीत के बाद अब लोकसभा चुनाव के लिए सियासी गोलबंदी तेज हो गई है. एनडीए गठबंधन से सीट बंटवारे के नाम पर असंतुष्ट होकर अलग होने वाले राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के मुखिया और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने गुरुवार को यूपीए का दामन थाम लिया. इस मौके पर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए बिहार की जनता से वादाखिलाफी का आरोप लगाया देश की राजधानी दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय में महागठबंधन के विस्तार और बल मिला जब कांग्रेस के आला नेताओं समेत पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा आरजेडी नेता तेजस्वी यादव, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की मौजूदगी में यूपीए का हिस्सा बन गए. इस मौके पर कुशवाहा ने कहा कि एनडीए मे उनका अपमान हो रहा था. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें नीच कहकर अपमानित किया. उन्होंने कहा कि उनके एनडीए छोड़ने के बाद आरजेडी प्रमुख लालू यादव और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उदारता दिखाई पूर्व केंद्रीय मंत्री कुशवाहा ने कहा था कि बिहार में मोदी जी ने चुनाव के समय लगभग हर सभा में कहा था कि बिहार के लोगों को पढ़ाई, दवाई और कमाई के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा. लेकिन नौजवान आज भी बड़ी संख्या में कमाई के लिये बाहर जा रहे हैं, न स्कूलों की व्यवस्था हुई न ही इलाज की कोई व्यवस्था हुई. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तारीफ करते हुए कुशवाहा ने कहा कि यह आज की बात नहीं उनकी कथनी और करनी में कोई फर्क नहीं. राहुल ने जो वायदे किए उसे पूरा किया. जब भूमि अधिग्रहण बिल लाया जा रहा था तब RLSP ने भी उसका विरोध किया था और कांग्रस ने इसे मिशन के तौर पर लिया उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि नीतीश कुमार हमें (RLSP) बर्बाद करना चाहते हैं और इसमें केंद्र की शक्तियां उनका साथ दे रही हैं. इसलिए लगा कि हमें वहां जाना चाहिए जहां बिहार की जनता की आवाज सुनी जाए. इसलिए मैं यूपीए में शामिल हो रहा हूं. कुशवाहा ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार ने उनकी पार्टी को तोड़ने और बिहार को बर्बाद करने की कसम खा ली है उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि बिहार में शिक्षा अच्छी हो, दलित, गरीब, पिछड़े और गरीब सवर्ण के बच्चों के लिए सरकारी स्कूल हैं. शिक्षा से संबंधित उनकी 25 सूत्रीय मांग पूरी कर दी जाती तो सीट शेयरिंग की कोई समस्या नहीं थी. लेकिन बिहार सरकार के मुखिया ने उन्हें नीच कहकर अपमानित किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here