Election Results 2018: कल होगा 8500 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला

0
38

5 राज्य में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने में अब 24 घंटे से भी कम का समय बचा है. पूरे देश की नजर मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के नतीजों पर हैं, तीनों राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है. और हर जगह बीजेपी की कुर्सी खिसकने का खतरा है. मंगलवार को सभी राज्यों के नतीजे सुबह से ही आने शुरू हो जाएंगे, चुनाव आयोग ने इसके लिए बड़ी तैयारी की है. मंगलवार को सभी राज्यों के नतीजे सुबह से ही आने शुरू हो जाएंगे, चुनाव आयोग ने इसके लिए बड़ी तैयारी की है. कल आने वाले नतीजों से पहले उससे जुड़ी कुछ खास बातें कल आने वाले नतीजों से पहले उससे जुड़ी कुछ खास बातें यहां पढ़ें…मध्य प्रदेश की 230, राजस्थान की 199 और छत्तीसगढ़ की 90 सीटों के नतीजे मंगलवार को घोषित किया जाएंगे. मध्य प्रदेश में पिछले 15 साल से, छत्तीसगढ़ में पिछले 15 साल से और राजस्थान में पिछले 5 साल से भारतीय जनता पार्टी की सरकार है.
मतगणना में सबसे पहले 8 बजे से डाक मतपत्रों की गणना शुरू होगी. इसके बाद सुबह साढ़े 8 बजे से इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की कंट्रोल यूनिट से मतगणना शुरू की जाएगी.
इस बार चक्रवार (राउंडवाइज) मतगणना के बाद परिणाम घोषित किए जाएंगे जिसके बाद उम्मीदवारों को परिणामों की प्रति भी दी जाएगी. इसके बाद अगले चक्र की मतगणना शुरू होगी.
आयोग द्वारा निर्देशित किया गया है कि अगले राउंड की गिनती तब तक प्रारंभ नहीं होगी जब तक पहले राउंड की मतगणना की गिनती समाप्त होकर उसके परिणाम डिस्प्ले पर प्रदर्शित न हो जाएं.
छत्तीसगढ़ में मतगणना के लिए 5184 गणनाकर्मी और 1500 माईक्रोऑब्जर्वर नियुक्त किए गए हैं. प्रत्येक हॉल में मतगणना के लिए 14 टेबल, रिटर्निंग ऑफिसर मेज और डाक मतपत्रों की गणना की मेज होगी.
छत्तीसगढ़ में विधानसभा क्षेत्रों में ईवीएम में डाले गये मतों की प्रत्येक चरण में 14 टेबल पर गणना होगी. सबसे अधिक कवर्धा विधानसभा क्षेत्र में 30 चरण में गिनती होगी एवं सबसे कम मनेन्द्रगढ़ विधानसभा में 11 चरणों में मतों की गिनती होगी.
छत्तीसगढ़ में 90 सीटों के लिए दो चरणों में 12 नवंबर और 20 नवंबर को मतदान हुआ था. राजस्थान, तेलंगाना में 7 दिसंबर और मध्य प्रदेश, मिजोरम में 28 नवंबर को मतदान हुए थे.
पांच राज्यों में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों के बाद अब सबकी निगाहें इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीनों (ई‍वीएम) पर टिकी हैं. इन चुनावों में इस्तेमाल की गईं 1 लाख 74 हजार ईवीएम में 8500 से ज्यादा उम्मीदवारों की किस्मत कैद है.
ये इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीनें इस समय राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना के 670 अतिसुरक्षित कक्षों में रखी हैं.
इन चुनावों में कुल 1 लाख 74 हजार 724 ईवीएम का इस्तेमाल किया गया. सबसे ज्यादा 65 हजार 367 मशीनें मध्य प्रदेश में इस्तेमाल की गईं. कुल 8 हजार 500 उम्मीदवारों ने इन चुनावों में किस्मत आजमाई है जिसमें सबसे ज्यादा 2907 उम्मीदवार मध्य प्रदेश में हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here